रविवार, 9 दिसंबर 2012

ब्रह्मचर्य पर स्वामी विवेकानन्द के विचार

प्रस्तुत लेख में "द कम्प्लीट वर्क्स ऑफ स्वामी विवेकानन्द" इत्यादि स्थानों से, ब्रह्मचर्य विषय पर स्वामी विवेकानन्द के विचार दिये जा रहे  हैं। ये एक ब्रह्मचर्य-साधक के लिए बहुत ही शक्तिप्रद विचार हैं। ऊपर का अंग्रेजी मूल उसके ठीक नीचे हिन्दी में अनुवादित है। इसमें और अधिक विचार भी जोड़े जाते रहेंगे। धन्यवाद।

Swamiji: You don't know! That power may come to all. That power comes to him who 
observes unbroken Brahmacharya for a period of twelve years, with the sole object of realising God I have practiced that kind of Brahmacharya myself, and so a screen has been removed, as it were, from my brain. For that reason, I need not any more think over or prepare myself for any lectures on such a subtle subject as philosophy. Suppose I have to lecture tomorrow; all that I shall speak about will pass tonight before my eyes like so many pictures; and the next day I put into words during my lecture all those things that I saw. So you will understand now that it is not any power which is exclusively my own. Whoever will practice unbroken Brahmacharya for twelve years will surely have it. If you do so, you too will get it. Our Shâstras do not say that only such and such a person will get it and not others!

स्वामीजी- क्या तुम नहीं जानते? यह शक्ति सभी में आ सकती है। यह शक्ति उसमें आती है जो बारह वर्ष तक अखण्ड ब्रह्मचर्य का पालन करता है, ईश्वर को पाने के एकमात्र लक्ष्य के साथ, मैं स्वयं उस तरह के ब्रह्मचर्य का पालन कर चुका हूँ, और उससे, मानो कि एक पर्दा सा मेरे मस्तिष्क से हट गया है। इसलिए मुझे अब दर्शन जैसे सूक्ष्म विषय पर भाषण देने के लिए भी ज्यादा तैयारी  करना या सोचना नहीं पड़ता। मान लो कि मुझे कल व्याख्यान देना है, जो भी मुझे बोलना होगा वह मेरी आँखों के सामने कई चित्रों की तरह आज रात को गुजर जाता है। और अगले दिन मैं वही सब, जो मैंने देखा था, शब्दों में व्यक्त कर देता हूँ। तो अब तुम समझोगे, कि यह कोई ऐसी शक्ति नहीं है जो कि सिर्फ मेरी हो। जो कोई भी बारह वर्ष के लिए अखंड ब्रह्मचर्य का पालन करेगा, वह निश्चित रूप से इसे पायेगा। अगर तुम ऐसा करोगे तो तुम भी इसे पाओगे। हमारे शास्त्र यह नहीं कहते कि केवल ऐसा-ऐसा व्यक्ति ही इसे पायेगा, और दूसरा नहीं।



If the performance of Yajnas is the corner-stone of the work-portion of the Vedas, as surely is Brahmacharya the foundation of the knowledge-portion.

यदि यज्ञों का करना वेदों के कर्मकाण्ड भाग की टेक (आधार) है तो उतना ही निश्चित रूप से ब्रह्मचर्य, ज्ञानकाण्ड भाग की टेक है।

The object of my speaking of these things is to impress upon you the fact that the life of each nation has a moral purpose of its own, and the manners and customs of a nation must be judged from the standpoint of that purpose. The Westerners should be seen through their eyes; to see them through our eyes, and for them to see us with theirs — both these are mistakes. The purpose of our life is quite the opposite of theirs. The Sanskrit name for a student, Brahmachârin, is synonymous with the Sanskrit word Kâmajit. (One who has full control over his passions.) Our goal of life is Moksha; how can that be ever attained without Brahmacharya or absolute continence? Hence it is imposed upon our boys and youth as an indispensable condition during their studentship. 

मेरा यह सब कहने का उद्देश्य यह है कि आपको यह समझा सकूँ कि हर राष्ट्र के जीवन का अपना एक नैतिक लक्ष्य होता है, और उस राष्ट्र के शिष्टाचार और रिवाज़ उसी उद्देश्य की दृष्टि से समझे जाने चाहिये। पाश्चात्यों को उनकी आँखों से देखा जाना चाहिये, उन्हें हमारी दृष्टि से देखा जाना और हमें उनकी दृष्टि से देखा जाना - दोनों गलतियाँ हैं। हमारे जीवन का उद्देश्य उनसे ठीक उल्टा है। छात्र के लिए संस्कृत का शब्द ब्रह्मचारी है जो कि कामजित् शब्द का पर्याय है (वह जिसका उसके कामवेग पर पूरा नियन्त्रण है)। जीवन का हमारा लक्ष्य मोक्ष है; वह ब्रह्मचर्य या पूर्ण संयम के बिना कैसे पाया जा सकता है? इसीलिए यह हमारे बालकों और युवाओं पर छात्रजीवन के दौरान एक अनिवार्य शर्त के रूप में रखा जाता है।    
                                                                                      - 'द कम्प्लीट वर्क्स ऑफ स्वामी विवेकानंद' से।


. A few days ago, a new set of the Encyclopaedia Britannica had been bought for the Math. Seeing the new shining volumes, the disciple said to Swamiji, "It is almost impossible to read all these books in a single lifetime." He was unaware that Swamiji had already finished ten volumes and had begun the eleventh.

Swamiji: What do you say? Ask me anything you like from these ten volumes, and I will answer you all.

The disciple asked in wonder, "Have you read all these books?"
Swamiji: Why should I ask you to question me otherwise?
Being examined, Swamiji not only reproduced the sense, but at places the very language of the difficult topics selected from each volume. The disciple, astonished, put aside the books, saying, "This is not within human power!"
Swamiji: Do you see, simply by the observance of strict Brahmacharya (continence) all learning can be mastered in a very short time...

कुछ दिन पहले मठ के लिए एनसाइक्लोपीडिया ब्रिटेनिका का नया सैट खरीद के लाया गया था, नये चमकते खण्ड देखकर शिष्य ने कहा, "इन सारी किताबों को एक जीवन में पढ़ना लगभग असंभव है।", उसे इस बात का भान नहीं था कि स्वामीजी पहले ही दस खण्ड समाप्त कर चुके थे और ग्यारहवाँ शुरू कर चुके थे। 
स्वामीजी: क्या कहते हो? इन दस खण्डों में से जो चाहो पूछ लो, और मैं तुम्हें सबका उत्तर दूँगा।
शिष्य ने अचरज से पूछा-  "क्या आपने ये सारी किताबें पढ़ ली हैं?"
स्वामीजी: तो फिर मैं तुमसे प्रश्न पूछने को और किसलिए कहता?
परीक्षा किये जाने पर स्वामीजी ने न सिर्फ भाव को यथावत् बताया, बल्कि हर खण्ड से चुने गये कठिन विषयों की मूल भाषा तक कई स्थानों पर दुहरा दी। शिष्य स्तब्ध हो गया, उसने किताबें एक तरफ रख दीं, यह कहते हुए कि, "यह मनुष्य की शक्ति के अन्दर नहीं है!"
स्वामीजी: क्या तुम देखते हो, सिर्फ ब्रह्मचर्य के दृढता से पालन से, सारी शिक्षा केवल थोड़े से समय में अधिकारपूर्वक सीखी जा सकती है...


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें